हमसफर और शायरी

12 Books

सावन और एक फटा हुआ छाता
बरसात
भीगी भीगी रात में
शायरी प्रतियोगिता – [बादल]
रात की रानी
अक़्ल ने एक दिन ये दिल से कहा
आशिक़ों की सब्ज़ी
इश्क़ की मस्ती
तौहीद
इश्क़ तासीर से नौमेद नहीं
होती है अगर्चे कहने से यारों पराई बात
अर्ज़-ए-नियाज़-ए-इश्क़ के क़ाबिल नहीं रहा